सत्यदर्पण:-

सत्यदर्पण:- कलयुग का झूठ सफ़ेद, सत्य काला क्यों हो गया है ?-गोरे अंग्रेज़ गए काले अंग्रेज़ रह गए। जो उनके राज में न हो सका पूरा, मैकाले के उस अधूरे को 60 वर्ष में पूरा करेंगे उसके साले। विश्व की सर्वश्रेष्ठ उस संस्कृति को नष्ट किया जा रहा है, देश को लूटा जा रहा है। दिन के प्रकाश में सबके सामने आता सफेद झूठ; और अंधकार में लुप्त सच।

भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | संस्कृति में ही हमारे प्राण है | भारतीय संस्कृति की रक्षा हमारा दायित्व | -तिलक 7531949051, 09911111611, 9999777358.
सीबीआई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
सीबीआई लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 16 दिसंबर 2015

केजरीवाल के आरोप सीबीआई, जेटली द्वारा खारिज

केजरीवाल के आरोप सीबीआई, जेटली द्वारा खारिज 
तिलक 
15 दिसं15 नदि 
दावों और प्रति दावों के बीच सीबीआई ने भ्रष्टाचार के एक मामले में आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक अधिकारी के कार्यालय पर छापा मारा, जिसके बाद आप प्रमुख ने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘‘कायर और मनोरोगी’’ कहा। इसके साथ ही आप और केंद्र के बीच पहले से जारी टकराव और गहरा गया। जबकि मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उनके कार्यालय पर छापा मारा गया किन्तु सीबीआई के साथ साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में इस दावे को नकार दिया। विपक्ष ने राज्यसभा में हंगामा किया और जिसके कारण सदन को दो बार स्थगित करना पड़ा। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि तीसरी मंजिल पर तलाशी केवल प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के कार्यालय में ली गई। दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 14 स्थानों पर छापे मारे गए।     कुमार और छह अन्य के विरुद्ध मामला अंकित किया गया है। जेटली ने राज्यसभा में कहा कि केजरीवाल के कार्यालय पर छापा नहीं मारा गया और यह छापा दिल्ली सरकार के एक अधिकारी के विरुद्ध कथित भ्रष्टाचार के मामले में मारा गया। ‘‘दिल्ली सरकार के विभागों से निविदाएं दिलाने में गत कुछ वर्षों में एक विशेष फर्म की सहायता करके’’ अपने आधिकारिक पद का दुरूपयोग करने के आरोपों में मामला अंकित किया गया है। जेटली ने कहा कि सीबीआई के छापे का केजरीवाल के कार्यालय से कोई लेना देना नहीं है और अधिकारी के विरुद्ध रिश्वतखोरी का मामला उनके अतीत से जुड़ा है। 
केजरीवाल ने ट्वीट किया, ''सीबीआई ने मेरे कार्यालय पर छापे मारे।’’ उन्होंने छापेमारी पर रोष जताते हुए एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘जब मोदी राजनीतिक रूप से मुझसे नहीं निपट सके तो उन्होंने यह कायरता दिखाई। मोदी कायर और मनोरोगी हैं।’’ केजरीवाल ने मोदी की आलोचना करने के लिए जिस भाषा का प्रयोग किया, उसकी भाजपा ने निंदा की और कहा कि यह ''पूर्णतय: अस्वीकार्य’’ है।’’ जावड़ेकर ने कहा, ''क्या वह भ्रष्ट को बचाना चाहते हैं?’’ उन्होंने कहा, ''भ्रष्ट के विरुद्ध कार्रवाई न करके उल्टा वह प्रधानमंत्री पर आरोप लगा रहे हैं। यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है।’’ 
अब प्रश्न यह है कि यदि अतीत में रिश्वतखोरी से जुड़ा अधिकारी उनके प्रधान सचिव नियुक्त है, तो क्या वह कानून से ऊपर है? उसपर कार्यवाही को अपने विरुद्ध बता कर विरोध करना, क्या भ्रष्टाचार का संरक्षण नहीं है? क्या वो मु मं कार्यालय को भ्रष्टाचार का अड्डा बनाना कहते है? 
बेताल ने कहा, "राजन नौटंकीवाल, यदि इन प्रश्नों का उत्तर तुमने जानबूझ कर, जनता को भ्रमित करने के लिए गलत दिया" तो तुम्हारा जनसमर्थन तुम्हारी सत्ता से अलग होकर, टुकड़े टुकड़े हो जायेगा। इस प्रकार नौटंकी के मोह में उलझे नौटंकी वाल का सारा जनसमर्थन, नौटंकी के शव के साथ अदृश्य हो गया। 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक

शनिवार, 27 जुलाई 2013

कौन सच्चा है कौन झूठा

कौन सच्चा है कौन झूठा 

पहले 5 रू में खाना मिलने का नाहक शोर व्यापक स्तर पर मचाया, जब जब हल्ला मच गया तब सारा दोष योगना योग पर डालने वाले सारे गधे, पहले एकसाथ गदर्भ राग क्यों गा रहे थे ? इससे 2 बात स्पष्ट हैं एक इनके सरके सारे नेता मंत्री तक गधे हैं। तथा जनता को भी अपने जैसा समझते हैं।  दूसरे कोई गदर्भ राज है जो इन्हें जैसा कहे गाने लगते हैं। चाल उलटी पड़ने पर पलटी मारने में माहिर है। जैसे ये वैसा इनका नेता। इनके हाथों देश का बनेगा कुछ नहीं- लुटेगा सबकुछ !  ये तो अपनी ही बात  उसका औचित्य सिद्ध करने में नंगे हुए हैं, किन्तु दूसरों को तो कुचक्र द्वारा कीचड़ उछाल कर शोर मचाया जाता है। अब यह स्पष्ट हो गया है, कौन जनता को भ्रमित कर रहा है। अब दूध का दूध  पानी का पानी हो चुका है ! क्या अब भी हम इनके भ्रम में फंसेंगे ?शत्रुओं को  जय भारत फिर इस  दे कर देश से आओ इनसे देश बचाएँ द्दारी क्यों ?               जय भारत भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | छद्म वेश में फिर आया रावण |
संस्कृति में ही हमारे प्राण है | भारतीय संस्कृति की रक्षा हमारा दायित्व || -तिलक

मंगलवार, 2 जुलाई 2013

...और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?

मोदी विरोध में कांग्रेस का इतना गिरना !!!....और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?
Photoमोदी विरोध में कांग्रेस का गिरना तो समझा, गृह मंत्री चिदम्बरम का इतना गिरना व पद का दुरूपयोग करना ... !! .. और कितना गिरोगे देश के गद्दारो ?
लश्कर ए तोएबा की 19 वर्षीय इशरत जहाँ की अपने 3 साथियों जावेद शेख, अमजदाली अकबराली राना और जीशान जोहर सहित मौत 2004 में अहमदाबाद के बाहरी क्षेत्र में पुलिस के साथ एक मुठभेड़ में तब हुई थी, जब वह नरेन्द्र मोदी की हत्या के लिए वहां आई हुई थी । अन्य साथी कथित मानवाधिकार कार्यकर्ता बन कर देश के कानून का लाभ उठाते हुए मुठभेड़ को हत्या का नाम देने लगे। मोदी के विरोधियों ने अवसर देख आतंकियों को समर्थन देना व प्रशासन को हत्यारा दर्शाने में कोई कमी नहीं छोड़ी। साथ में मोदी को लपेटने का हर संभव प्रयास भी किया किन्तु साँच को आंच नहीं, सत्य सामने आ ही गया। अब सबकी दृष्टी 4 जुलाई को सीबीआई की स्थिति रिपोर्ट पर लगी है।
इस मामले में गृह मंत्रालय ने पहले शपथ-पत्र में इशरत और उसके साथियों को लश्कर के आतंकवादी बताया था। पी.चिदंबरम के गृहमंत्री बनने के बाद दूसरे शपथ-पत्र में इससे इनकार किया गया। इस जांच की देखरेख कर रहे गुजरात उच्च न्यायालय ने सीबीआई को निर्देश दिया है कि मृतकों के आतंकवादी होने या  होने को अनदेखा कर एनकाउंटर की सचाई का पता लगाया जाए। वाह रे गृहमंत्री, वाह रे न्याय (?) की अभिलाषा !!!!
Photo: दोस्तों ये हे गुजरात हाईकोर्ट की जज एवं हिमाचल के सी .एम वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी ,जिसने इशरत जंहा एंकाउंटर में सी .बी .आई को निर्देश दिया की वो केवल ये जाँच करे की मुठभेड फर्जी थी या असली उसे कोई मतलब नही की वो आतंकी थी या नही !! दोस्तों इस प्रकार के निर्देशों में कांग्रेसी साजिशन की बू निश्चित तोर पर आती हे ....क्योकि इस धरती पर जीवित व्यक्ति पर बेकग्राउंड का पूरा असर रहता हे ......क्योकि इन दिनों जिस प्रकार जजों के कूकर्म निकल कर सामने आ रहे हे इनकार नही किया जा सकता हे .....मोदी जी को पिछले 1 1 वर्षो में घेरने के लिए कांग्रेस ने पिछवाड़े तक घोड़े खोल के देख लिए हे लेकिन मोदी जी इनके राजनितिक बाप हे ...अब कांग्रेस के पास ये आखरी मोका हे जिसमे कांग्रेस पूरा जोर लगा देगी ...दोस्तों ये अमेरिकन जाँच एजेंसियों ,भारतीय एजेंसियों में ,सभी सबूतों में प्रूव हो चूका हे की इशरत जंहा पाकिस्तान के लश्कर ए त्येब्बा नामक नेटवर्क की हिस्सा थी ......क्या आतंकियों को मारना भी क्या गुनाह हे ?गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश एवं हिमाचल के मु मं वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी, ने किस अभिलाषा से इस पद को कलंकित किया ? मित्रो, ये है गुजरात उच्च न्यायालय की न्यायाधीश एवं हिमाचल के मु मं वीरभद्र सिंह की पुत्री अभिलाषा कुमारी, जिसने इशरत जहां एंकाउंटर में सी .बी .आई को निर्देश दिया कि वो केवल ये जाँच करे कि मुठभेड फर्जी थी या असली। उसे कोई मतलब नही की वो आतंकी थी या नही !! मित्रो, इस प्रकार के निर्देशों में कांग्रेसी कुचक्रों की नीचता का स्तर निश्चित होता है। ....क्योकि इस धरती पर जीवित व्यक्ति पर खानदान की परम्परा का पूरा असर रहता है। ......क्योकि इन दिनों जिस प्रकार जजों के कुकर्म निकल कर सामने आ रहे है, इसे नकारा नही किया जा सकता है। .....मोदी जी को पिछले 11 वर्षो में घेरने के लिए कांग्रेस ने पिछवाड़े तक घोड़े खोल के देख लिए है। किन्तु मोदी जी इनके राजनितिक बाप है। ...अब कांग्रेस के पास ये अन्तिम अवसर है। जिसमे कांग्रेस पूरा दम लगा देगी। ...मित्रो, ये अमेरिकन जाँच एजेंसियों, भारतीय एजेंसियों में, सभी सबूतों में प्रमाणित हो चुका है कि इशरत जंहा पाकिस्तान के लश्कर ए तोएबा नामक नेटवर्क की अंग थी। ......क्या, आतंकियों को मारना भी क्या अपराध है ?
दूषित राजनीति के बिकाऊ नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प Join YDMS ;qxniZ.k सन 2001 से हिंदी साप्ताहिक राष्ट्रीय समाचार पत्र, पंजी सं RNI DelHin 11786/2001 विशेष प्रस्तुति विविध विषयों के 28+1 ब्लाग, 5 चैनल व अन्य सूत्र, की 60 से अधिक देशों में  एक वैश्विक पहचान है। तिलक -संपादक युगदर्पण मीडिया समूह YDMS. 

9911111611, 

9999777358. 8743033968. 

Yug Darpan Media Samooh YDMS যুগদর্পণ, યુગદર્પણ  ਯੁਗਦਰ੍ਪਣ, யுகதர்பண  യുഗദര്പണ  యుగదర్పణ  ಯುಗದರ್ಪಣ,
http://bharatvarshasyaitihas.blogspot.in/2013/07/blog-post.html


यह राष्ट्र जो कभी विश्वगुरु था, आज भी इसमें वह गुण,

योग्यता व क्षमता विद्यमान है | आओ मिलकर इसे बनायें; - तिलक
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | छद्म वेश में फिर आया रावण |
संस्कृति में ही हमारे प्राण है | भारतीय संस्कृति की रक्षा हमारा दायित्व || -तिलक