सत्यदर्पण:-

सत्यदर्पण:- कलयुग का झूठ सफ़ेद, सत्य काला क्यों हो गया है ?-गोरे अंग्रेज़ गए काले अंग्रेज़ रह गए। जो उनके राज में न हो सका पूरा, मैकाले के उस अधूरे को 60 वर्ष में पूरा करेंगे उसके साले। विश्व की सर्वश्रेष्ठ उस संस्कृति को नष्ट किया जा रहा है, देश को लूटा जा रहा है। दिन के प्रकाश में सबके सामने आता सफेद झूठ; और अंधकार में लुप्त सच।

भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | संस्कृति में ही हमारे प्राण है | भारतीय संस्कृति की रक्षा हमारा दायित्व | -तिलक 7531949051, 09911111611, 9999777358.

शनिवार, 16 जुलाई 2016

पराजित विजय माल्या

पराजित विजय माल्या 

अदालत ने माल्या के खिलाफ गैर-जमानती वारंट जारी कियाकिंगफिशर विमानसेवा जिसके पंख कभी दूसरों को ले आकाश में उड़ने की क्षमता रखने वाली अब बंद हो चुकी किंगफिशर विमानसेवा के आधार स्तम्भ विजय माल्या के लिए अपना आधार कठिन हो गया है। भुगतान असफलता मामले में भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (भाविप्रा) द्वारा अंकित वाद उपनगर अंधेरी की महानगर न्यायपालिका ने माल्या के विरुद्ध जब गैर-जमानती वारंट जारी कर दिया गया है। इस मामले में 7 मई को दंडाधिकारी एएस लाऔलकर ने माल्या को आज के दिन न्याया में उपस्थित होने का निर्देश दिया था और आदेश का पालन नहीं करने पर गैर-जमानती वारंट जारी करने की स्पष्ट चेतावनी भी दी थी। किन्तु माल्या न्याया में उपस्थित नहीं हुए। 
इससे यह तो स्पष्ट समझ में आती है कि आकाश की ऊँची उड़ान में रहने के आदी तथा मध्य के व्यवसाय का नशा और इन सब को सहयोगी सत्ता के समय चलाते हुए जिस मानसिकता और अहं का निर्माण हुआ उसने किंगफिशर विमानसेवा के विजय माल्या कानून और न्यायालय का कोई सम्मान या भय नहीं रहा तथा उसकी अवमानना करने का दुस्साहस उपजा। किन्तु संभवत वो भूल गए हैं कि अब उन्हें सरकारी पोषण संरक्षण नहीं अपितु छूट भी एक सामान्य सीमा तक ही मिलेगी। उसका पालन नहीं करने या अवमानना करना अब उन्हें भारी पड़ेगा। 
हुआ यह कि न्याया भाविप्रा द्वारा किंगफिशर विमानसेवा के विरुद्ध अंकित कुल 100 करोड़ रुपए के दो चेक अवैध होने के मामले की सुनवाई कर रही थी। भाविप्रा ने दो मामले अंकित करवाए हैं जिसमें माल्या को व्यक्तिगत रूप से उपस्थित होने की जो स्थायी छूट न्याया से मिली है उसे रद्द करने की मांग की गई है। विमानसेवा के बैंकों से लिए ऋण के 9,000 करोड रुपये चुकाने में असफल रहने की सूचना जब फैली तो तभी माल्या ने देश छोड़ दिया था। भाविप्रा ने माल्या के विरुद्ध बन्दी आदेश जारी करने की भी मांग की है। 
इससे पूर्व भाविप्रा की ओर से न्याया में उपस्थित वकील ने कहा था कि माल्या का पासपोर्ट रद्द होने को देखते हुए लगता नहीं है कि न्याया के आदेश के बाद भी उनका वकील अपने मुवक्किल को न्याया में उपस्थित कर पाएगा। इस कारण अब न्यायलय ने उनकी उस मांग को स्वीकार कर लिया है। 
अब अपराधियों के अच्छे दिन समाप्त हो गए तभी तो उनके कुछ पोषक कहने लगे है कहाँ हैं अच्छे दिन। 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक

मंगलवार, 19 अप्रैल 2016

दो शपथपत्र, दोहरा चरित्र, पूरा पूरा प्रमाण

दो शपथपत्र, दोहरा चरित्र, पूरा पूरा प्रमाण 
Fake Encounter, or Fake Affidavit, of Fake HM 
न दि, 19 अप्रैल (तिलक)। इशरत जहां मामले में तत्कालीन गृह मंत्री पी. चिदंबरम की भूमिका को लेकर हुए नए रहस्योद्घाटन के बाद भारतीय जनता पार्टी ने एक बार फिर कांग्रेस को लक्ष्य पर लिया है। गुजरात का मुख्य मंत्री रहते नरेंद्र मोदी की हत्या किये जाने के प्रयासों को रोकना, जिन्हे झूठी-मुठभेड़ लगता है; ऐसे कांग्रेस नेताओं पर भाजपा ने प्रधानमंत्री मोदी को फंसाने के लिए आतंकवादियों की सहायता करने का आरोप लगाते हुए देश से क्षमा मांगने को कहा है। 
चिदंबरम को इशरत जहां के लश्कर से संबंधो का पता था शपथपत्र 1, जिसे बदल कर देश की सुरक्षा से खिलवाड किया गया। और ये स्वयं तत्कालीन गृह मंत्री ने किया हो... !!! मात्र पी.चिदंबरम को नहीं बल्कि पूरे संप्रग सरकार को इस अपराध की स्वीकारोक्ति करनी चाहिए। इस मामले में जिस प्रकार से तथ्य सामने आ रहे हैं इससे पता चलता है कि कांग्रेस पार्टी के पापों का घड़ा फूट चुका है। पहली बार देखा गया है कि पूर्व गृह मंत्री अपराधियों की सहायता कर रहे हैं। इस मामलों में हुए नए रहस्योद्घाटन ने कांग्रेस की छवि दूषित कर दी है। कांग्रेस को पूरे देश से क्षमा मांगनी चाहिए। 
इतना ही नहीं ज पा नेता सुब्रह्मण्यम स्वामी ने तो इसे राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला बताते हुए पी. चिदंबरम को रासुका के अंतर्गत बंदी तक बनाने को कह दिया। 
जानकारी हो कि इशरत जहां के मामले में ताजा प्रपत्रों के बाद साफ हो गया है कि इशरत जहां को आतंकी बताने वाले प्रथम शपथपत्र को तत्कालीन गृहमंत्री पी. चिदंबरम ने स्वीकृति दी थी और एक माह बाद ही दूसरे शपथपत्र में उसे निर्दोष बताया था। जबकि सार्वजनिक रूप से चिदंबरम पहले शपथपत्र के पीछे निचले स्तर के अधिकारियों का हाथ बताते रहे हैं। 
यहाँ ध्यान देने वाली बात यह है - दूसरा शपथपत्र लगते समय इस बात का कोई उल्लेख नहीं है कि यह निर्णय किस आधार पर लिया गया, जिससे प्रथम शपथ पत्र को झुठला कर नया शपथ पत्र लगने की आवश्यकता पड़ी हो। न ही कभी किसी मंच पर उन कारणों को बताया गया। इससे यह स्पष्ट हो जाता है कि दोहरे शपथपत्र का उल्लेख करने पर भय था कि चोर की दाड़ी का तिनका शूल बन जाता। दो शपथपत्र, दोहरा चरित्र, पूरा पूरा प्रमाण Times Now पर देखिये भाजपा रा सचिव श्रीकांत शर्मा 
https://www.youtube.com/watch?v=DSs84dvnicg&index=237&list=PLDB2CD0863341092A 
अधिक विवरण हेतु index=235, index=236 भी देखें। Times Now की उपसमाचार सम्पा ने सूकाअधि     से अर्जित जानकारी अपनी कड़छी से परोसी। साभार वही प्रसाद हम आपको बाँट रहे हैं। आप आगे बाँटते रहे, सत्य बढ़ता रहे। फिर किसी मानवतावादी वेश में आतंकवाद का समर्थन न किया जा सके। 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण |
भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक 

बुधवार, 27 जनवरी 2016

ये है मनोहर लाल जी का मनोहारी हरियाणा।

ये है मनोहर लाल जी का मनोहारी हरियाणा। 
Image result for manohar lal khattar in hindiहोटल के खाने का ऐसा बिल जिसे पढकर, आपके भी आंखों से भावुक आंसू आयेंगे.!
.
हरयाणा के एक होटेल में घटी सत्य घटना है ...!!
.
रात का समय था, होटल की मेज रखा पर 
अपना खाना, एक समान्य वयस्क श्रमिक बैठा खा रहा था ..! तभी उसकी दृष्टी होटल के बाहर कडी ठण्ड में खडे छोटे से भाई बहन की जोडी पर गई ...!!
.
जो दोनों बच्चों का दुखी चेहरा, 
खाने की थाली पर कातर दृष्टी से देखते बच्चे, यह बात उस व्यक्ति के ध्यान में क्षण भर में आ गयी ...!! 
.
आँखों से संकेत करते दोनों बच्चों को अंदर बुलाया, बच्चे संकोच से डरते डरते ही अंदर आये,
उस समान्य श्रमिक ने दोनों बच्चों के लिए खाने की दो थाली मंगाई .....
नन्हे बच्चें, अपने नन्हे से हाथों में जो बैठ रहा था, वो फटाफट खा रहे थे ......
नन्हे बच्चों के पेट में भूख की आग बुझ रही थी ...
खाना खाने के पश्चात् उस आदमी ने बिल मंगवाया .....!!
.
काउंटर पर से बिल आया, आँकड़ा देखकर वो व्यक्ति स्तब्ध, निशब्द रह गया ..!!
.
जानते है, बिल कितना था ?
.
.
.
उस बिल पर लिखा था "हमारे पास ऐसी कोई मशीन या फिर आँकडा नहीं, जिससे मानवता का मुल्य गिना जा सके, भगवान आपका भला करे "
...ये है मनोहर लाल जी का आज का 
मनोहारी हरियाणा, प्रेरक, मनोहारी हरियाणा। 
🏻 🏻मानवता को प्रणाम, "कहो कैसी रही" 
जब देश का नकारात्मक भांड मीडिया जो असामाजिक तत्वों का महिमामंडन करे, 
उसका सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प, प्रेरक राष्ट्र नायको का यशगान 
-युगदर्पण मीडिया समूह YDMS- तिलक संपादक 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया शर्मनिरपेक्ष रावण |
भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक
http://jeevanshailydarpan.blogspot.in/2016/01/blog-post_27.html
http://raashtradarpan.blogspot.in/2016/01/blog-post_27.html
http://samaajdarpan.blogspot.in/2016/01/blog-post_27.html
http://yuvaadarpan.blogspot.in/2016/01/blog-post_27.html

गुरुवार, 17 दिसंबर 2015

नारे लगाता प्यासा विरोधी, आपको पानी पिलाया मोदी

नारे लगाता प्यासा विरोधी, आपको पानी पिलाया मोदी 
तिलक  
16 दिसंबर 2015    नई दिल्ली
 
लोकसभा में आज एक प्रशंसनीय दृश्य देखने को मिला, जब प्रधानमंत्री के विरुद्ध नारे लगा रहे आप सदस्य भगवंत सिंह मान को कुछ बेचैनी सी अनुभव हुई, तो नरेन्द्र मोदी ने उन्हें अपना पानी का गिलास थमा दिया। मान ने पानी पीने के बाद प्रधानमंत्री के इस भाव का मुस्कुरा कर आभार जताया और सदन में उपस्थित सदस्यों ने मेजें थपथपाकर इसका स्वागत किया और कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी सहित विपक्षी सदस्य, मोदी और विरोधी, भी इस बात पर मुस्कुराते देखे गए। 
आप सदस्य मान दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के कार्यालय में सोमवार को सीबीआई द्वारा की गयी छापेमारी का विरोध करते हुए, कांग्रेस तथा तृणमूल सदस्यों के साथ आसन के समक्ष आकर नारेबाजी कर रहे थे। मान ‘‘प्रधानमंत्री होश में आओ’’ के नारे लगा रहे थे। वह आसन के समक्ष प्रधानमंत्री मोदी से कुछ ही कदम दूर खड़े थे। इसी बीच नारे लगाते लगाते भगवंत मान की दृष्टी बेचैनी से आसपास पानी ढूंढने लगीं। इसी बीच धीर गंभीर मुद्रा में बैठे प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी मेज से पानी का गिलास उठाकर भगवंत मान की ओर बढ़ा दिया। भगवंत मान ने उनके हाथ से गिलास लिया और पानी पी लिया। भगवंत मान ने मुस्कुरा कर इस भाव के लिए प्रधानमंत्री की ओर देखा, तो प्रधानमंत्री और सुषमा भी मुस्कुरा दिए। 
मानवीय संवेदना और मानवतावाद के पाखंड में यही अन्तर, मोदी को सबसे भिन्न बनाता है। 
विविधता भरे पूरे विश्व में सभी राष्ट्र प्रमुखों से, उसकी और भारत की जय जयकार कराता है। 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण |
भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक

बुधवार, 16 दिसंबर 2015

केजरीवाल के आरोप सीबीआई, जेटली द्वारा खारिज

केजरीवाल के आरोप सीबीआई, जेटली द्वारा खारिज 
तिलक 
15 दिसं15 नदि 
दावों और प्रति दावों के बीच सीबीआई ने भ्रष्टाचार के एक मामले में आज दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के एक अधिकारी के कार्यालय पर छापा मारा, जिसके बाद आप प्रमुख ने एक ट्वीट में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘‘कायर और मनोरोगी’’ कहा। इसके साथ ही आप और केंद्र के बीच पहले से जारी टकराव और गहरा गया। जबकि मुख्यमंत्री ने दावा किया कि उनके कार्यालय पर छापा मारा गया किन्तु सीबीआई के साथ साथ वित्त मंत्री अरुण जेटली ने राज्यसभा में इस दावे को नकार दिया। विपक्ष ने राज्यसभा में हंगामा किया और जिसके कारण सदन को दो बार स्थगित करना पड़ा। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि तीसरी मंजिल पर तलाशी केवल प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार के कार्यालय में ली गई। दिल्ली और उत्तर प्रदेश में 14 स्थानों पर छापे मारे गए।     कुमार और छह अन्य के विरुद्ध मामला अंकित किया गया है। जेटली ने राज्यसभा में कहा कि केजरीवाल के कार्यालय पर छापा नहीं मारा गया और यह छापा दिल्ली सरकार के एक अधिकारी के विरुद्ध कथित भ्रष्टाचार के मामले में मारा गया। ‘‘दिल्ली सरकार के विभागों से निविदाएं दिलाने में गत कुछ वर्षों में एक विशेष फर्म की सहायता करके’’ अपने आधिकारिक पद का दुरूपयोग करने के आरोपों में मामला अंकित किया गया है। जेटली ने कहा कि सीबीआई के छापे का केजरीवाल के कार्यालय से कोई लेना देना नहीं है और अधिकारी के विरुद्ध रिश्वतखोरी का मामला उनके अतीत से जुड़ा है। 
केजरीवाल ने ट्वीट किया, ''सीबीआई ने मेरे कार्यालय पर छापे मारे।’’ उन्होंने छापेमारी पर रोष जताते हुए एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘जब मोदी राजनीतिक रूप से मुझसे नहीं निपट सके तो उन्होंने यह कायरता दिखाई। मोदी कायर और मनोरोगी हैं।’’ केजरीवाल ने मोदी की आलोचना करने के लिए जिस भाषा का प्रयोग किया, उसकी भाजपा ने निंदा की और कहा कि यह ''पूर्णतय: अस्वीकार्य’’ है।’’ जावड़ेकर ने कहा, ''क्या वह भ्रष्ट को बचाना चाहते हैं?’’ उन्होंने कहा, ''भ्रष्ट के विरुद्ध कार्रवाई न करके उल्टा वह प्रधानमंत्री पर आरोप लगा रहे हैं। यह पूरी तरह से अस्वीकार्य है।’’ 
अब प्रश्न यह है कि यदि अतीत में रिश्वतखोरी से जुड़ा अधिकारी उनके प्रधान सचिव नियुक्त है, तो क्या वह कानून से ऊपर है? उसपर कार्यवाही को अपने विरुद्ध बता कर विरोध करना, क्या भ्रष्टाचार का संरक्षण नहीं है? क्या वो मु मं कार्यालय को भ्रष्टाचार का अड्डा बनाना कहते है? 
बेताल ने कहा, "राजन नौटंकीवाल, यदि इन प्रश्नों का उत्तर तुमने जानबूझ कर, जनता को भ्रमित करने के लिए गलत दिया" तो तुम्हारा जनसमर्थन तुम्हारी सत्ता से अलग होकर, टुकड़े टुकड़े हो जायेगा। इस प्रकार नौटंकी के मोह में उलझे नौटंकी वाल का सारा जनसमर्थन, नौटंकी के शव के साथ अदृश्य हो गया। 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2015

प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी का दृष्टिकोण (संबोधन में)


प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज नई दिल्‍ली में हिन्‍दुस्‍तान टाइम्‍स लीडरशिप समिट को संबोधित किया। अपने संबोधन में प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत की सुनहरे भविष्‍य की ओर यात्रा का विवरण देते हुए कहा कि भारत की वर्तमान स्थिति को विश्‍व के संदर्भ में देखने के साथ-साथ कुछ वर्ष पहले भारत कहाँ था इस संदर्भ में देखना होगा। 
प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत के आर्थिक सुधारों के प्रति अपने दृष्टिकोण का विवरण देते हुए, हाल ही मिली कुछ बड़ी आर्थिक सफलताओं, जिनमें 7.4 प्रतिशत आर्थिक विकास दर और व्‍यापार करने के लिए सुगमता में उन्‍नति सम्मिलित है, का उल्लेख किया। उन्‍होंने कहा कि व्‍यापार करने के लिए सुगमता में बढ़ोतरी केवल केंद्र और राज्‍य के मिलकर काम करने के कारण मिली है। प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्‍यों को 14वें वित्‍त आयोग की अनुशंसाओं के अनुरूप अतिरिक्‍त वित्‍तीय सहायता दी गई है। 
प्रधानमंत्री श्री मोदी ने बताया कि एलपीजी सब्सिडी के प्रत्‍यक्ष हस्‍तांतरण और एलईडी लाइटिंग योजना से करोड़ों रूपये की बचत की जा रही है। उन्‍होंने कहा कि यूरिया में नीम की परत चढ़ाने से इसके कृषि क्षेत्र के अतिरिक्‍त दूसरे क्षेत्रों में उपयोग को रोकने में सहायता मिली है। प्रधानमंत्री ने बिहार में दो लोकोमोटिव निर्माण इकाईयों के लिए हाल ही में रेल क्षेत्र में विदेशी प्रत्‍यक्ष निवेश का उल्‍लेख भी किया। 
प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने भारत बिना बिजली वाले 18 हजार गांवों में विद्युतीकरण की प्रक्रिया के बारे में बताते हुए कहा कि इस क्षेत्र में प्रगति हर कोई ग्रामीण विद्युतीकरण एप के द्वारा देख सकता है। 
मोदी का एजेंडा है विकास अर्थात न्यूनतम मंत्रिमंडल से अधिकतम परिणाम का संकल्प।
बने मीडिया विकल्प; पत्रकारिता में आधुनिक विचार, लघु आकार -सम्पूर्ण समाचार -युद।
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण |
भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक

सोमवार, 21 सितंबर 2015

मीडिया एक जनून

मीडिया एक जनून 
युग दर्पण एक व्यवसाय नहीं, अपितु स्वस्थ मीडिया के लिए जनून है। एक व्यवसाय का संहार हो सकता है, किन्तु एक सृजनात्मक जनून का नहीं। सन 2001 से पंजी युगदर्पण राष्ट्रीय साप्ताहिक समाचार पत्र हिंदी में लघु आकार सम्पूर्ण व स्वस्थ समाचार, संस्कार युक्त विचार तथा 2010 से इंटरनेट से जुड़ा तो 70 देशों में एक विशिष्ठ पहचान अर्जित की है, जिसमे विविध विषयों के 30 ब्लॉग फेसबुक में 9 समूह 7 समुदाय पेज ट्वीटर रेडिफ शामिल है। ऑरकुट भी था। तथा 5 नेट चैनल हैं। 
Media my Passion 
Yug Darpan is not a profession but the passion for Healthy Media. A profession may destruct but a passion can't, will never die YDMS.
नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक व्यापक विकल्प का सार्थक संकल्प, 
देश की जड़ों से जुड़ें, युगदर्पण के संग 
-युगदर्पण मीडिया समूह YDMS- तिलक संपादक 7531949051, 9911111611 
बनते हैं 125 करोड़ शेयर -Share and Share, to reach 125 Crore 
भारतीय संस्कृति की सीता का हरण करने देखो | मानवतावादी वेश में आया रावण | भारतीय संस्कृति में ही हमारे प्राण है | संस्कृति की रक्षा करना हमारा दायित्व || -तिलक